मंगलवार, अगस्त 21, 2018


Introduction to Piploda नगर का परिचय

भारतीय स्वतंत्रता के पूर्व, पिपलौदा इसी नाम की रियासत की राजधानी थी। सन् 1957 में डोडिया वंश के राजपूत क्षत्रिय सरदुल सिंघ यहाँ शासन करते थे। डोडिया मध्य प्रदेश के रतलाम और नीमच और राजस्थान के प्रतापगढ़ में पाया जाने वाला जाट गौत्र है। रियासत का क्षेत्र 91 वर्ग किमी है। पिपलौदा सन् 1924 तक, जब तक यह एक पृथक रियासत बना, जाओरा रियासत पर निर्भर था। यहाँ के शासक ने 15 जून सन् 1948 को भारत सरकार को स्वीकार किया और पिपलौदा मध्य भारत के रतलाम जिले का एक हिस्सा बना। 1 नवंबर 1956 को मध्य भारत को मध्य प्रदेश में मिला दिया गया।

Location and Climate of Piploda स्थान

भौगोलिक दृष्टि से पिपलौदा नगर अक्षांस 23.35° 44” उत्तर और 75.43° 36” पूर्व के मध्य स्थित है। नगर की समुद्र सतह से औसत उॅंचाई 470 मीटर या 1541 फिट है। नगर मध्य प्रदेश के उत्तर पश्चिमी दिशा में स्थित है। पिपलौदा नगर दक्षिण में रतलाम मुख्यालय, पश्चिम में जाओरा, उत्तर में मंदसौर और पूर्व में पड़ोसी राज्य राजस्थान के जिला बांसवाडा से घिरा है।

Connectivity to Piploda संपर्क

नगर मध्य प्रदेश के महत्वपूर्ण स्थानों जैसे कि रतलाम, जाओरा, सैलाना, मंदसौर, और राजस्थान राज्य के चित्तोणगढ़ जिले से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। नगर मुख्य जिला सड़क (MDR)-12A के समानांतर बसा हुआ है। सबसे नजदीक का रेलवे स्टेशन मात्र 17 किमी दूर जाओरा में है। जाओरा स्टेशन से रतलाम, अजमेर, कोटा, भोपाल और उदयपुर के लिए साधन उपलब्ध हैं।
© 2017 नगर परिषद् पिपलौदा